Khwaab | ख्वाब | Hindi Shayari | Real Shayari | Love shayari

Follow us on Instagram :

—————————————————————————
Like us on Facebook :

—————————————————————————
Please Like,Comment & Share this video.
Don’t forget to Subscribe this channel.

—————————————————————–

—————————————————————–

गिनते रहे सालो को हम ज़िंदगी में,
और पल हमने संभाले ही नहीं,
तुम कहते हो तुमने ख्वाब मार दिए,
हमे देखो हमने पाले ही नहीं I
ख्वाहिशो को अपनी उपजने ना दिया,
दिल का हाल दिमाग को समझने ना दिया,
तेरे सिवा कोई और चेहरा,
आँखों को अपनी जांचने ना दिया,
जहा रख्खा था हमने बंद करके अपनी चाहतो को,
कभी खोले वहाँ के ताले ही नहीं,
तुम कहते हो तुमने ख्वाब मार दिए,
हमे देखो हमने पाले ही नहीं I
जब गिरे हम तब संभलते रहे,
पर रुके ना हम चलते रहे,
देख कर के तुमको गेरो के साथ,
अंदर ही अंदर जलते रहे,
एक तेरे चेहरे की हसी के खातिर,
अपने ज़ज़्बात कभी बाहर निकाले ही नहीं,
तुम कहते हो तुमने ख्वाब मार दिए,
हमे देखो हमने पाले ही नहीं I

—————————————————————–
Music :-
—————————————————————–
Somber by Audionautix is licensed under a Creative Commons Attribution license (
Artist:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here