kavi sammelan/ kumar viral — GAON JAWAR

कुमार विरल लोक कवि और गीतकार हैं। मुजफ्फरपुर के रहने वाले हैं. संजीवनी संस्थान की ओर से आयोजित कवि सम्मेलन में यह लोक कविता उन्होंने सुनाई। यह कविता शरद ऋतु की विदाई और बसंत ऋतु का स्वागत करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here