Int’l Women’s Day Special Tarpan 24 तर्पण २४ I Nari Tum Kewal Shraddha Ho I Jaishankar Prashad

प्रकृति के बाद ईश्वर ने इस दुनिया में अपने सबसे शानदार हस्ताक्षर स्त्री के रूप में किया है। शायद इसी कारण प्रकृति, शक्ति, ममता, माया, क्षमा, तपस्या, आराधना ये सब शब्द स्त्रीलिंग हैं! स्त्रियों पर सुनी-पढ़ी हज़ारों, लाखों रचनाओं के ऊपर तैरती सी लगती है महाकवि जयशंकर प्रसाद की नारी को लेकर यह परिभाषा, अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की पूर्व-संध्या पर आप तक –

The Almighty, after Mother Nature, has bestowed his best gifts upon Women. Most of the beautiful emotions and expressions in Hindi language are feminine. Prakriti, Shakti, Mamta, Maya, Kshama, Tapasya, Aaradhna are all feminine words and depict the most divine emotions. This literary treasure of Mahakavi Jaishankar Prasad floats above thousands of compositions penned on Women. The definition of the most divine creation by Mahakavi Jaishankar Prasad on the eve of International Women’s Day –

“क्या कहती हो ठहरो नारी!
संकल्प-अश्रु जल से अपने
तुम दान कर चुकी पहले ही
जीवन के सोने-से सपने

नारी! तुम केवल श्रद्धा हो
विश्वास-रजत-नग पगतल में
पीयूष-स्रोत सी बहा करो
जीवन के सुंदर समतल में

देवों की विजय, दानवों की
हारों का होता युद्ध रहा
संघर्ष सदा उर-अंतर में
जीवित रह नित्य-विरुद्ध रहा

आँसू से भीगे अंचल पर
मन का सब कुछ रखना होगा
तुमको अपनी स्मित रेखा से
यह संधिपत्र लिखना होगा

Kya Kehti Ho Thehro Naari
Sankalp-Ashru Jal Se Apne
Tum Daan Kar Chuki Pehle Hi
Jeevan Ke Sone-se Sapne

Naari! Tum Kewal Shraddha Ho
Vishwas-Rajat-Nag Pagtal Mein
Piyush-Srot Si Baha Karo
Jeevan Ke Sundar Samtal Mein

Devon Ki Vijay, Daanavon Ki
Haaron Ka Hota Yuddh Raha
Sangharsh Sada Ur-Antar Mein
Jeevit Reh Nitya-Viruddh Raha

Aansu Se Bheege Anchal Par
Man Ka Sab Kuch Rakhna Hoga
Tumko Apni Smit Rekha Se
Yeh Sandhipatra Likhna Hoga

Lyrics : Jaishankar Prasad
Vocals and Composition : Dr Kumar Vishwas
Music Arrangement : Band Poetica
All Rights : KV Studio

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here