Akhbar Bana Kar Kya Paya | Dr Kumar Vishwas

युग-धर्म का यह गीत जन-जन के हृदय में बसेगा, इसका मुझे कमोबेश यकीन था, लेकिन अगली पीढ़ी से इतनी शीघ्र इसकी प्रतिध्वनि लौटेगी, यह पता नहीं था। उत्तर प्रदेश के किसी सूदूर इलाक़े से एक स्कूल के समारोह का यह वीडियो किसी मित्र ने भेजा है!
“तुम्हारे राजमहलों में भले गूँजे तुम्हारी जय
जो स्वर तुमने ख़रीदे हैं तुम्हें ही वो अदा होंगे
मगर कच्चे घरों में रहने वाले सच्चे लोगों की
नयी नस्लों में मेरे सुर सजे नग्में सदा होंगे”

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here