साहित्य आज तक 2019 I मैं भाव सूची | Sahitya Aaj Tak 2019

0

Dr Kumar Vishwas enthralls the audiences at Sahitya Aaj Tak 2019 program in Delhi

Video Courtesy : Aaj Tak

#KumarVishwas
#मैं_भाव_सूची
#SahityaAajtak

मैं भाव-सूची उन भावों की, जो बिके सदा ही बिन तोले
तन्हाई हूँ हर उस ख़त की जो पढ़ा गया है बिन खोले
हर आँसू को हर पत्थर तक पहुँचाने की लाचार हूक
मैं सहज अर्थ उन शब्दों का जो सुने गए हैं बिन बोले
जो कभी नहीं बरसा खुल कर हर उस बादल का पानी हूँ
लव कुश की पीर, बिना गाई सीता की राम कहानी हूँ

जिनके सपनों के ताजमहल बनने से पहले टूट गए
जिन हाथों में दो हाथ कभी आने से पहले छूट गए
धरती पर जिनके खोने और पाने की अजब कहानी है
किस्मत की देवी मान गई पर प्रणय देवता रूठ गए
मैं मैली चादर वाले उस कबिरा की अमरित-बानी हूँ
लव कुश की पीर, बिना गाई सीता की राम कहानी हूँ 

कुछ कहते हैं मैं सीखा हूँ अपने ज़ख़्मों को ख़ुद सी कर 
कुछ जान गए, मैं हँसता हूँ भीतर-भीतर आँसू पी कर
कुछ कहते हैं, मैं हूँ विरोध से उपजी एक ख़ुद्दार विजय
कुछ कहते हैं मैं रचता हूँ ख़ुद में मर कर ख़ुद में जी कर
लेकिन मैं हर चतुराई की सोची-समझी नादानी हूँ
लव कुश की पीर, बिना गाई सीता की राम कहानी हूँ

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :- s

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here