दर्द भरी शायरी Dard love hindi shayari ख़ामोशी तोड़ के आवाज़ भी कर लेता हूँ

अच्छे मौसम में तग ओ ताज़ भी कर लेता हूँ
पर निकल आते हैं परवाज़ भी कर लेता हूँ

तुझ से ये कैसा तअल्लुक़ है जिसे जब चाहूँ
ख़त्म कर देता हूँ आग़ाज़ भी कर लेता हूँ

गुम्बद-ए-ज़ात में जब गूँजने लगता हूँ बहुत
ख़ामोशी तोड़ के आवाज़ भी कर लेता हूँ

यूँ तो इस हब्स से मानूस हैं साँसें मेरी
वैसे दीवार में दर बाज़ भी कर लेता हूँ

सब के सब ख़्वाब में तक़्सीम नहीं कर देता
एक दो ख़्वाब पस-अंदाज़ भी कर लेता हूँ

Get daily updates of
Hindi shayari, love shayari, miss you shayari, yaad shayari, life shayari, dard shayari, dil shayari, sad shayari, bewafa shayari, romantic shayari, hindi kavita, funny shayari, good night shayari, हिन्दी शायरी, हिन्दी कविता, दर्द शायरी, प्यार भरी शायरी, दिल की शायरी, दर्द भरी शायरी,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here