Tarpan 32 तर्पण ३२ | Manzil Door Nahi Hai | Ramdhari Singh Dinkar

0

अक्सर मंज़िल के पास आते-आते राही हौसला छोड़ने लगता है। ऐसे समय में कवि की चार पंक्तियाँ संजीवनी बन कर उसे दोबारा स्थापित करती हैं।
It often happens that one loses ones rhythm when he/she is about to finish. Here’s a poet preaching a success mantra to such warriors.

दिशा दीप्त हो उठी प्राप्त कर पुण्य-प्रकाश तुम्हारा
लिखा जा चुका अनल-अक्षरों में इतिहास तुम्हारा
जिस मिट्टी ने लहू पिया, वह फूल खिलाएगी ही
अम्बर पर घन बन छाएगा ही उच्छवास तुम्हारा
और अधिक ले जाँच, देवता इतना क्रूर नहीं है
थककर बैठ गये क्या भाई? मंज़िल दूर नहीं है

Dishaa Dipt Ho Uthi Praapt Kar Puny-Prakaash Tumhara
Likhaa Jaa Chukaa Anal-Aksaron Mein Itihaas Tumhara
Jis Mitti Ne Lahoo Piyaa, Wah Phool Khilaaegi hi
Ambar Par Ghan Ban Chhaega Hi Uchchhvaas Tumhara
Aur Adhik Le Jaanch, Devata Itana Kroor Nahi Hai
Thakakar Baith Gaye Kya Bhai? Manjil Door Nahi Hai

Lyrics : Ramdhari Singh Dinkar
Vocals and Composition : Dr Kumar Vishwas
Music Arrangement : Band Poetica
All Rights : KV Studio

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here