Tarpan 31 तर्पण ३१ | Bhookh Hai To Sabra Kar | Dushyant Kumar

0

राजनीति के ऊँचे, आलीशान, भव्य लेकिन श्रवण-शक्ति-शून्य परकोटों तक जाते राजपथ और भूख से गलती अंतड़ियों से निकली क्षीण अशक्त आवाज़ वाले जनपथ के बीच पुल बुनते दुष्यंत
Here’s Dushyant trying to bridge the ever un-addressed gap between the royal, flamboyant, panaromic but ignorant avenue Rajpath and the space of hunger and pain, that’s Janpath.

भूख है तो सब्र कर रोटी नहीं तो क्या हुआ
आजकल दिल्ली में है ज़ेर-ए-बहस ये मुदद्आ ।

गिड़गिड़ाने का यहां कोई असर होता नही
पेट भरकर गालियां दो, आह भरकर बददुआ ।

दोस्त, अपने मुल्क कि किस्मत पे रंजीदा न हो
उनके हाथों में है पिंजरा, उनके पिंजरे में सुआ ।

इस शहर मे वो कोई बारात हो या वारदात
अब किसी भी बात पर खुलती नहीं हैं खिड़कियाँ ।

Bhookh Hai to Sabra Kar Roti Nahi to Kya Hua
Aajkal Dillii Mein Hai Jer-e-bahas Ye Mudadaa

Gidgidaane ka Yahaan Koi Asar Hota Nahi
Pet Bharakar Gaaliyaan Do, Aah Bharakar Badaduaa

Dost Apne Mulk ki Kismat Pe Ranjida Na Ho
Unke Haatho Mein Hai Pinjra, Unke Pinjre Mein Suaa

Is Shahar Mein Vo Koi Baaraat Ho Yaa Vaardaat
Ab Kisi Bhii Baat Par Khulti nahi Hain Khidkiyaan

Lyrics : Dushyant Kumar
Vocals and Composition : Dr Kumar Vishwas
Music Arrangement : Band Poetica
All Rights : KV Studio

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here