Tarpan 30 तर्पण ३० | Agar Mein Tum Ko | Agyeya

0

अगर मैं तुम को ललाती सांझ के नभ की अकेली तारिका
अब नहीं कहता
या शरद के भोर की नीहार – नहाई कुंई
टटकी कली चम्पे की, वगैरह
तो नहीं कारण कि मेरा हृदय उथला या कि सूना है
या कि मेरा प्यार मैला है

बल्कि केवल यही : ये उपमान मैले हो गये हैं
देवता इन प्रतीकों के कर गये हैं कूच

कभी बासन अधिक घिसने से मुलम्मा छूट जाता है
मगर क्या तुम नहीं पहचान पाओगी
तुम्हारे रूप के-तुम हो, निकट हो, इसी जादु के
निजी किसी सहज, गहरे बोध से, किस प्यार से मैं कह रहा हूं
अगर मैं यह कहूं

बिछली घास हो तुम
लहलहाती हवा मे कलगी छरहरे बाजरे की

आज हम शहरातियों को
पालतु मालंच पर संवरी जुहि के फ़ूल से
सृष्टि के विस्तार का- ऐश्वर्य का- औदार्य का
कहीं सच्चा, कहीं प्यारा एक प्रतीक बिछली घास है
या शरद की सांझ के सूने गगन की पीठिका पर
दोलती कलगी अकेली बाजरे की

और सचमुच, इन्हें जब-जब देखता हूं
यह खुला वीरान संसृति का घना हो सिमट आता है
और मैं एकान्त होता हूं समर्पित

शब्द जादु हैं
मगर क्या समर्पण कुछ नहीं है
हरी बिछली घास
डोलती कलगी छरहरी बाजरे की

Agar Mein Tum Ko Lalaati Saanjh Ke Nabh Ki Akeli Taarikaa
Ab Nahin Kahata
Yaa Sharad Ke Bhor Ki Neehaar-Nahaee Kunee
Tataki Kali Champe Ki, Vagairah
To Nahin Kaaran Ki Mera Hrday Uthalaa Yaa Ki Munaa Hain
Yaa Ki Mera Pyaar Mela Hain

Balki Keval Yahi : Ye Upamaan Maile Ho Gaye Hain
Devata In Prateekon Ke Kar Gaye Hain Kooch

Kabhi Baasan Adhik Ghisane Se Mulamma Chhut Jata Hai
Magar Kya Tum Nahin Pahachaan Paogee
Tumhare Roop Ke-Tum Ho, Nikat Ho, Isee Jaadu Ke
Nijee Kisee Sahaj, Gahare Bodh Se, Kis Pyar Se
Mein Kah Raha Hoon
Agar Mein Yah Kahoon

Bichhali Ghaas Ho Tum
Lahalahaati Havaa Main Kalagi Chharahare Baajare Ki

Aaj Ham Shaharaatiyon Ko
Paalatu Maalanch Par Sanvari Juhi Ke Phool Se
Srishti Ke Vistaar Ka-Aishwarya Ka-Audaarya Ka
Kahin Sachcha, Kahin Pyaara Ek Pratik Bichhali Ghaas Hai
Yaa Sharad Ki Saanjh Ke Soone Gagan Ki Peethika Par
Dolatee Kalagee Akeli Baajare Ki

Aur Sachamuch, Inhen Jab-Jab Dekhata Hoon
Yah Khula Veeran Sansrti Ka Ghana Ho Simat Aata Hain
Aur Mein Ekaant Hota Hoon Samarpit

Shabd Jaadu Hain
Magar Kya Samarpan Kuchh Nahin Hain
Hari Bichhali Ghaas
Dolati Kalagee Chharahari Baajare Ki

Lyrics : Ajneya
Vocals and Composition : Dr Kumar Vishwas
Music Arrangement : Band Poetica
All Rights : KV Studio

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here