Tarpan 20 तर्पण २० | Sharad Chandni Barsi | Agyeya

0

मनोहारी शरद ऋतु में स्पंदित होती कमनीय कल्पना को कोमल शब्दों की अंजुरी में भरता कवि
When a poet translates the fantasy of a cozy delight under an autumn moon, in softest of words
शरद चांदनी बरसी, अँजुरी भर कर पी लो
ऊँघ रहे हैं तारे सिहरी सरसी
ओ प्रिय कुमुद ताकते
अनझिप क्षण में तुम भी जी लो
शरद चांदनी बरसी अँजुरी भर कर पी लो

सींच रही है ओस हमारे गाने
घने कुहासे में झिपते चेहरे पहचाने
खम्भों पर बत्तियाँ खड़ी हैं सीठी
ठिठक गये हैं मानों पल-छिन आने-जाने

उठी ललक हिय उमगा, अनकहनी अलसानी
जगी लालसा मीठी, खड़े रहो ढिंग गहो हाथ पाहुन मन-भाने,
ओ प्रिय रहो साथ भर-भर कर अँजुरी पी लो

बरसी शरद चांदनी, मेरा अन्त:स्पन्दन
तुम भी क्षण-क्षण जी लो !

Sharad Chaandanee Barasee
Anjuree Bhar Kar Pee Lo
Sharad Chaandanee Barasee
Anjuree Bhar Kar Pee Lo
Oongh Rahe Hain Taare
Siharee Sarasee
O Priy Kumud Taakate
Anajhip Kshan Mein
Tum Bhee Jee Lo

Seench Rahee Hain Os Hamaare Gaane
Ghane Kuhaase Mein Jhipate Chehare Pahachaane
Khambhon Par Battiyan Khadee Hain Seethee
Thithak Gaye Hain Maanon Pal-Chhin Aane-Jaane
Uthee Lalak Hiy Umaga
Anakahanee Alasaanee
Jagee Laalsaa Meethee,
Khade Raho Dhing Gaho Haath Paahun Man-Bhaane,
O Priy Raho Saath
Bhar-Bhar Kar Anjuree Pee Lo

Barasee Sharad Chandanee
Mera Ant:Spandan
Tum Bhee Kshan-Kshan Jee Lo !

Tarpan 20 तर्पण २० | Sharad Chandni | Agyeya

Follow us on :-
YouTube :-
Facebook :-
Twitter :-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here